Agratoday.in

  • Increase font size
  • Default font size
  • Decrease font size
Agratoday.in

यमुना नदी की हालत पर पीएम को खुला खत

आदरणीय प्रधानमंत्री जी
नमस्कार
महोदय,
आप और आपके मंत्री समय-समय पर नदियों में प्रदूषण को लेकर चिंता व्यक्त कर चुके हैं और नदियों को बचाने के लिए अपनी सरकार की प्रतिबद्धता व्यक्त कर चुके हैं।

Last Updated on Monday, 26 September 2016 19:14 Read more...
 

हृदय रोगियों की संख्या के मामले में भारत तीसरे स्थान पर

भारतीय संस्कृति और जीवनशैली में ह्रदय को स्वस्थ्य रखने की क्षमता थी। मगर, बदलते दौर में  भागमभाग की जिंदगी और पाश्चात सभ्यता से दिल के रोग बढ़ रहे हैं। अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि दुनिया में ह्रदय रोगियों के मामले में भारत तीसरे नंबर पर है।आगरा : भारतीय संस्कृति और जीवनशैली में ह्रदय को स्वस्थ्य रखने की क्षमता थी। मगर, बदलते दौर में  भागमभाग की जिंदगी और पाश्चात्य सभ्यता से दिल के रोग बढ़ रहे हैं। अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि दुनिया में ह्रदय रोगियों के मामले में भारत तीसरे नंबर पर है।

Read more...
 

‘योगा से अस्थमा को किया जा सकता है नियंत्रित’

किशोरों में अस्थमा तेजी से बढ़ा है, इससे उनका स्कूल छूट रहा है। कम उम्र में ही उनकी कार्यक्षमता कम हो रही है। इन्हेलर और नेबुलाइजर का इस्तेमाल करना पड़ रहा है। मगर अब अस्थमा रोगी किशोरों को बीमारी से राहत मिल सकती है।आगरा : किशोरों में अस्थमा तेजी से बढ़ा है, इससे उनका स्कूल छूट रहा है। कम उम्र में ही उनकी कार्यक्षमता कम हो रही है। इन्हेलर और नेबुलाइजर का इस्तेमाल करना पड़ रहा है। मगर अब अस्थमा रोगी किशोरों को बीमारी से राहत मिल सकती है।

Read more...
 

‘टाइम वेस्ट’ नहीं बल्कि दिमाग के लिए ‘पौष्टिक खाना’ है पर्याप्त नींद

बच्चों के ज्यादा सोने को लेकर हमेशा चिड़चिड़ करने वाले माता-पिता को यह समझ लेना चाहिए कि किशोरों के बेहतर मानसिक व शारीरिक विकास के लिए कम से कम नौ से साढ़े नौ घंटे की नींद आवश्यक है।आगरा : बच्चों के ज्यादा सोने को लेकर हमेशा चिड़चिड़ करने वाले माता-पिता को यह समझ लेना चाहिए कि किशोरों के बेहतर मानसिक व शारीरिक विकास के लिए कम से कम नौ से साढ़े नौ घंटे की नींद आवश्यक है। विकास सम्बंधी कई हार्मोन किशोरों में नींद के दौरान ही बनते हैं। यानी बेहतर विकास और तनाव रहित दिनचर्या के लिए दिमाग का भोजन है नींद। यदि नींद पूरी न हो तो तनाव, चिड़चिड़ापन, मूड का खराब रहने का असर स्वास्थ्य पर भी पड़ता है। यहां तक कि नींद पूरी न होने पर किशोर डायबिटीज और ओबेसिटी का भी शिकार हो सकते हैं।

Last Updated on Sunday, 18 September 2016 20:06 Read more...
 

जीवनशैली से जुडी बीमारियों से हैं ग्रसित हैं भारतीय किशोर

दुनिया की जनसंख्या में 17 फीसद हिस्सा भारत का है जबकि किशोरों की जनसंख्या में 20 फीसद हिस्सेदारी भारत की है।आगरा : दुनिया की जनसंख्या में 17 फीसद हिस्सा भारत का है जबकि किशोरों की जनसंख्या में 20 फीसद हिस्सेदारी भारत की है। यह भारत के लिए संपदा हैं जो देश को तरक्की की राह पर ले जा सकती है लेकिन किशोर और युवा जीवनशैली से जुडी बीमारियों से जूझ रहे हैं, उनका शारीरिक और मानसिक विकास नहीं हो रहा है। ऐसे में होटल फोर प्वाइंट में आयोजित तीन दिवसीय राष्ट्रीय कार्यशाला के समपान समारोह में रविवार को निर्णय लिया गया कि भारत सरकार एडोलिसेन्ट हेल्थ एकेडमी (एएचए) व इंडियन पीडिएट्रिक एसोसिएशन (आईएपी) के साथ मिलकर किशोरों के शारीरिक और मानसिक विकास के लिए पॉलिसी तैयार करेगी।

Read more...
 

तीन साल में तीन गुना बढ़ गया है किशोरों का यौन शोषण

तीन साल में तीन गुना बढ़ गया है किशोरों का यौन शोषणआगरा : हर पांच में से एक लड़का और एक लड़की यौन शोषण के शिकार हो रहे हैं। अधिकांश मामलों में इनका यौन शोषण करने वाले भी किशोर ही हैं। यह बडी समस्या है, इसपर होटल फोर प्वाइंट में आयोजित इंडियन एकेडमी ऑफ पिडियाट्रिक्स और एडोलसेंट हेल्थ एकेडमी की तीन दिवसीय राष्ट्रीय कांफ्रेंस में शनिवार को चर्चा की गई। पिछले तीन वर्ष में किशोरों के साथ यौन शोषण के मामले तीन गुना बढ़ गए हैं।

Read more...
 

'किशोरों को प्रॉपर्टी नहीं, ईश्वर का दिया वरदान समझें'

किशोर अभिभावकों की प्रॉपर्टी नहीं, बल्कि ईश्वर द्वारा दिया गया वह खूबसूरत वरदान होते हैं, जो हर किसी को नसीब नहीं होता... आखिर क्या कारण है जिससे बच्चे किशोर होने पर अभिभावकों से दूर भागने लगते हैं... क्यों बच्चे से किशोर होते ही माता-पिता का रुख बदल जाता है... यह कहना था डॉ. जेएस टुटेजा का। आगरा : किशोर अभिभावकों की प्रॉपर्टी नहीं, बल्कि ईश्वर द्वारा दिया गया वह खूबसूरत वरदान होते हैं, जो हर किसी को नसीब नहीं होता... आखिर क्या कारण है जिससे बच्चे किशोर होने पर अभिभावकों से दूर भागने लगते हैं... क्यों बच्चे से किशोर होते ही माता-पिता का रुख बदल जाता है... यह कहना था डॉ. जेएस टुटेजा का। वह सेंट कॉनरेड्स स्कूल में एडोलिसेन्ट हेल्थ एकेडमी व इंडियन पीडिएट्रिक एसोसिएशन द्वारा आयोजित स्कूल एजुकेशन प्रोग्राम में अभिभावकों व शिक्षकों को सम्बोधित कर रहे थे।

Last Updated on Friday, 16 September 2016 20:37 Read more...
 

 

loading...

 

Banner

Latest On Apunkacareer.com

  • NEET-MDS To Be Held From Nov.30th To Dec.3rd

    National Eligibility-cum-Entrance Test for entrance to MDS Courses in terms of Section 10 of the Dentists Act, 1948 as amended in 2016 shall be conducted by the National Board of Examinations.New Delhi: National Eligibility-cum-Entrance Test for entrance to MDS Courses in terms of Section 10 of the Dentists Act, 1948 as amended in 2016 shall be conducted by the National Board of Examinations.

Latest On Kadahi.com


Gallery

Search

Classifieds

Mediabharti Web Solutions provides the services of web hosting, booking domains, designing, developing, marketing, content syndication, business mails and web promotions. For any query call to 0129-4036474 and 09582553546. Mediabharti.co.in

Ads by Mediabharti Web Solutions

Syndication